in

New jobs increased in january signals economic recovery | दिसंबर में बढ़ी नई नौकरियां, देश में आर्थिक रिकवरी की ओर संकेत: रिपोर्ट

देश में अलग-अलग इंडस्ट्री में नई नौकरियों में नियुक्ति को लेकर डिमांड दिसंबर 2021 में सालाना आधार पर 12 फीसदी बढ़ी है. सोमवार को जारी मॉन्सटर एंप्लॉयमेंट इंडैक्स के मुताबिक, इससे देश में आर्थिक रिकवरी में अच्छा संकेत दिखता है.

दिसंबर में बढ़ी नई नौकरियां, देश में आर्थिक रिकवरी की ओर संकेत: रिपोर्ट

देश में अलग-अलग इंडस्ट्री में नई नौकरियों में नियुक्ति को लेकर डिमांड दिसंबर 2021 में सालाना आधार पर 12 फीसदी बढ़ी है.

देश में अलग-अलग इंडस्ट्री में नई नौकरियों में नियुक्ति को लेकर डिमांड दिसंबर 2021 में सालाना आधार पर 12 फीसदी बढ़ी है. सोमवार को जारी मॉन्सटर एंप्लॉयमेंट इंडैक्स के मुताबिक, इससे देश में आर्थिक रिकवरी में अच्छा संकेत दिखता है. इंडैक्स में मॉन्सटर इंडिया पोर्टल के साथ दूसरे डेटाबेस पर ऑनलाइन जॉब पॉस्टिंग का विश्लेषण किया जाता है. इसमें पाया गया है कि जिन 27 इंडस्ट्री को मॉनिटर किया गया है, उसमें से 22 में नई नौकरियों को लेकर डिमांड दिसंबर 2020 के मुकाबले ज्यादा थी.

सेगमेंट्स के मामले में, ऑफिस इक्विपमेंट और ऑटोमेशन में सबसे ज्यादा डिमांड बनी रही. इनमें नौकरियों के लिए पोस्टिंग दिसंबर 2021 में सालाना आधार पर 86 फीसदी ज्यादा रही है. मॉन्सटर डॉट कॉम के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर शेखर गरिसा ने कहा कि 2021 से आखिर से नई नौकरियों के आंकड़ों से तमाम सेक्टर्स में उम्मीद और रिकवरी को लेकर बहुत मजबूत धारणा आई है. उन्होंने कहा कि हालांकि, वे 2022 में भारत में नई नौकरियों की ग्रोथ को लेकर बेहतर उम्मीद रख रहे हैं. उन्होंने जॉब मार्केट पर ओमीक्रोन के मुमुकिन असर को भी ध्यान में रखा है.

प्रतिबंधों का कारोबारी गतिविधियों पर असर होने की उम्मीद

भारत में हाल ही के हफ्तों में रोजाना के कोरोना वायरस मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है. इसकी वजह से कई राज्यों ने वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पाबंदियां लगाईं हैं. हालांकि, लॉकडाउन नहीं लगाए गए हैं, लेकिन प्रतिबंधों का कारोबारी गतिविधियों पर असर होने की उम्मीद है.

जॉब पोस्टिंग में कई सेक्टर्स में सालाना आधार पर डबल डिजिट की ग्रोथ देखी गई है. इनमें प्रिंटिंग और पैकेजिंग (36 फीसदी), बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस (35 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (30 फीसदी) और रिटेल (14 फीसदी) शामिल हैं. दूसरी तरफ, इंजीनियरिंग, सीमेंट, कंस्ट्रक्शन, आयरन और स्टील में दिसंबर 2021 में बढ़े श्रम प्रवास की वजह से 13 फीसदी की गिरावट देखी गई है. मॉन्सटर डॉट कॉम ने एक बयान में कहा कि इससे लॉजिस्टिक्स और कंस्ट्रक्शन में भी रूकावटें आईं हैं.

कोरोना वायरस महामारी अपने तीसरे साल में है. ऐसे में हेल्थकेयर सेक्टर के लिए नौकरियों में मांग ज्यादा हुई है. इसमें मासिक आधार पर 6 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है. मासिक आधार पर, नौकरियां रिटेल सेक्टर में सबसे ज्यादा बनी हुईं हैं, जहां डिमांड दिसंबर में पिछले महीने से 12 फीसदी ज्यादा रही थी.

What do you think?

Written by rannlabadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

GIPHY App Key not set. Please check settings

कोरोना के नए मामलों में 4 फीसद की कमी, 24 घंटे में 2.58 लाख नए मामले

२०२१ में हेल्थकेयर-आगामी दशक के लिए आउटलुक